सीएम योगी को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, भड़काऊ भाषण मामले में मुकदमा चलाने से इनकार

Share with your friends

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आज सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिल गई. कोर्ट ने 2007 भड़काऊ भाषण देने के मामले में उन पर मुकदमा चलाने की अनुमति देने से इनकार कर दिया. बता दें कि यूपी सरकार ने मई 2017 में इस आधार पर मुकदमे की अनुमति देने से मना कर दिया था कि सबूत नाकाफी हैं. इसके बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी फरवरी 2018 में मुकदमा चलाने की अनुमति नहीं दी थी.

इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी. आज सेवानिवृत्त हो रहे सीजेआई एनवी रमण, जस्टिस हिमा कोहली और जस्टिस सीटी रविकुमार की पीठ ने आज इस मामले में फैसला सुनाया.

याचिकाकर्ता के वकील फुजैल अहमद अय्यूबी ने हाईकोर्ट के समक्ष रखे गए मुद्दों में से एक का सुप्रीम कोर्ट में उल्लेख किया था. इसमें लिखा गया था कि क्या सरकार धारा 196 के तहत आपराधिक मामले में ऐसे व्यक्ति के लिए आदेश पारित कर सकती है जो उसी बीच राज्य का मुख्यमंत्री चुना जाता है और अनुच्छेद 163 के तहत कार्यकारी प्रमुख है. वकील ने कहा था कि हाईकोर्ट ने इस मुद्दे पर विचार नहीं किया.

इस पर पीठ ने पूछा, एक और मुद्दा है. एक बार जब आप निर्णय के अनुसार योग्यता पर चले जाते हैं और सामग्री के अनुसार, यदि कोई मामला नहीं बनता है, तो मंजूरी का सवाल कहां है? अगर कोई मामला है, तो मंजूरी का सवाल आएगा. अगर कोई मामला ही नहीं है, तो मंजूरी का सवाल कहां है?

अय्यूबी ने कहा, मुकदमा चलाने की मंजूरी से इनकार करने के कारण ही केस में क्लोजर रिपोर्ट दाखिल की गई है. वहीं, यूपी सरकार की ओर से वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि इस मामले में कुछ बचा ही नहीं है. उन्होंने कहा सीएफएसएल के पास सीडी भेजी गई थी और पाया गया कि उसके साथ छेड़छाड़ हुई थी. साथ ही याचिकाकर्ता ने जो मुद्दा उठाया है हाईकोर्ट ने उस पर ध्यान दिया है.

याचिकाकर्ता परवेज परवाज का कहना था कि तत्कालीन सांसद योगी आदित्यनाथ के भाषण के बाद 2007 में गोरखपुर में दंगा हुआ था. इसमें कई लोगों की जान चली गई थी. साल 2008 में दर्ज एफआईआर की राज्य सीआईडी ने कई साल तक जांच की. उसने 2015 में राज्य सरकार से मुकदमा चलाने की अनुमति मांगी.

याचिका में कहा गया है कि मई 2017 में राज्य सरकार ने अनुमति देने से इनकार कर दिया. जब राज्य सरकार ने मुकदमा चलाने की अनुमति देने से इनकार किया, तब तक योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बन चुके थे. ऐसे में अधिकारियों की तरफ से लिया गया यह फैसला दबाव में लिया गया हो सकता है.


Share with your friends

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Regional

देश मे 5G सेवा शुरू होने पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने BJP पर कसा तंज, बताई नई परिभाषा

Share with your friends

Share with your friendsउत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने केंद्र सरकार द्वारा 5G सेवा शुरू किए जाने पर बीजेपी पर तंज मारा है. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा कि बीजेपी के राज में जनता को पहले से ही ‘5G’ मिल रहा है. […]


Share with your friends
Read More
Regional

यूपी में कांग्रेस की कमान संभालेंगे बृजलाल खाबरी, अजय राय और नसीमुद्दीन स‍िद्दीकी बने प्रांतीय अध्‍यक्ष

Share with your friends

Share with your friendsलंबी प्रत‍िक्षा के बाद उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी का प्रदेश अध्‍यक्ष आज घोष‍ित कर द‍िया गया. अब यूपी में कांग्रेस की कमान बृजलाल खाबरी को सौंपी गई है. इसके पहले यह पदभार अजय कुमार लल्‍लू को द‍िया गया था. हालांक‍ि, व‍िधानसभा चुनाव में म‍िली हार की समीक्षा के बाद उन्‍हें पद से […]


Share with your friends
Read More
Regional

PFI बैन पर बसपा सुप्रीमो मायावती की आई प्रतिक्रिया, संघ का नाम लेकर कही ये बात

Share with your friends

Share with your friendsबहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) की मुखिया मायावती (Mayawati) ने पीएफआई को बैन (PFI Ban) करने पर केंद्र सरकार पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि पीएफआई समेत आठ संगठनों को प्रतिबंधित किया है, उससे राजनीतिक स्वार्थ व संघ तुष्टीकरण की नीति मानकर लोगों में बेचैनी है. मायावती ने शुक्रवार को […]


Share with your friends
Read More